KL राहुल की जीवनी KL Rahul Biography In Hindi

 डोमेस्टिक क्रिकेट मे अपनी शानदार बैटिंग से नाम कमा रहे KL Rahul आज के समय में न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में अपने टैलेंट का जलवा बिखेर चुके हैं। इस २०१८ में IPL  के अपने पहले ही मैच में सिर्फ 14 बॉल पर उन्होंने हाफ सेंचुरी बनाकर साबित कर दिया कि किंग्स इलेवन पंजाब का यह डिसीजन बिल्कुल सही था। 




और इस तरह से उन्होंने आईपीएल के सबसे तेज 50 रन बनाने का रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया। इससे पहले यह रिकॉर्ड सुनील नारायण और यूसुफ पठान के नाम था। जिन्होंने की 15 बॉल का सामना करते हुए 50 रन लगाया था। KL राहुल न केवल आईपीएल और डोमेस्टिक तक सिमित हे बल्कि वह अंतरास्ट्रीय क्रिकेट मे भी अपना बल्लेबाजीका जलवा बिखेर चुके हे।    

 KL  राहुल का जन्म 18 अप्रैल 1992 को मंगलौर में हुआ था। उनके पिता का नाम की Dr KN Lokesh  है। जोकि प्रोफेसर हैं। साथ ही साथ नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी कर्नाटका के एक्टिंग डायरेक्टर भी हे।  KL Rahul माँ का  नाम राजेश्वरी है। KL Rahul के पिता क्रिकेट के बहुत ही बड़े फैन थे।

वह अपने लड़के का नाम महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर के लड़के  रोहन गावस्कर के नाम पर रखना चाहते थे। लेकिन उन्होंने सुनील गावस्कर के लड़के  का नाम रोहन की जगह राहुल समझ लिया था। और इस तरह से उन्होने अपने लड़केका नाम राहुल रख दिया।  

जब KL Rahul  11 साल के थे तभी से उन्होंने क्रिकेट   खेलना शुरू कर दिया। उनमे क्रिकेट के प्रति लगाव शायद उनके पिता से  ही आया हे। आगे चलकर  18 साल की उम्र में  KL Rahul अपनी पढ़ाई और क्रिकेटिंग करियर को आगे पहुंचाने के लिए बेंगलुरु चले गए। 

और वहां पर जैन  यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के साथ-साथ क्रिकेट की बारीकी को भी सीखा। राहुल ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपना डेब्यू कर्नाटका की तरफ से खेलते हुए 2010-11 कि सीजन  से किया। साथ ही उनके शानदार परफॉर्मेंस की वजह से इसे सालों उन्हे  अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप में भारत की तरफ से खेलने का मौका भी मिला। 

KL राहुल की  मुख्य जानकारी


KL Rahul Biography 
पूरा नाम (Full Name)कन्नौर लोकेश राहुल (Lokesh Rahul) 
जन्म दिनांक (Date Of Birth)18 अप्रैल 1992
भारत क्रिकेट टीम में इनकी भूमिका (Role)भारतीय क्रिकेटर (बल्लेबाज एवं विकेटकीपर)
पत्नी (Wife)अविवाहित
शिक्षा (Education)ग्रेजुएट
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शुरुआतएक दिवसीय (वन डे) – 11 जून 2016 को जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे स्टेडियम मे.
टेस्ट – 26 दिसंबर 2016 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न स्टेडियम में.
टी 20- 18 जून 2016 जिंबाब्वे टीम के विरुद्ध हरारे स्टेडियम.


और फिर आगे चलकर 2013 में राहुल ने इंडियन प्रीमियर लीग में अपना डेब्यू रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की ओर से खेल कर किया। हालांकि इस सीजन में खेले गए पांच मैचों में उन्होंने सिर्फ 20 रन ही बनाए। और इस तरह से वे अपने टैलेंट को लोगों तक पहुंचाने में पूरी तरह से असफल रहे थे। 

आगे चलकर 2014 आईपीएल के आंकड़े भी राहुल की करियर के पॉइंट ऑफ़ व्यू से बिल्कुल भी अच्छे नहीं रहे। क्यों की ११ मैच में वह सिर्फ १६६ रन ही बनाये थे। लेकिन इसके बाद से उन्होने अपने बैटिंग तकनीक में सुधर लाया। 

और फिर  2014-15 में साउथ जोन की ओर से खेले गए दिलीप ट्रॉफी के मैच में सेंट्रल जोन के खिलाफ राहुल ने पहले इनिंग मे 185 रन की शानदार पारी और दूसरे इनिंग में 130 रन की शानदार पारी खेली। और इस तरह से वह एक बार फिर से सेक्टर  के नजर मे आये। और वह भारत के नेशनल टीम के लिए सेलेक्ट कर लिया गया। उन्होने अपना टेस्ट डेब्यू  ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 26 दिसंबर 2014 को किया। 

लेकिन अपने पहले मैच के पहले इनिंग मे उन्होंने 3 रन बनाए जबकि दूसरे इनिंग मे सिर्फ 1 रन ही बना सकी। और उनका पहला टेस्ट भी उनके लिए बहुत बुरा साबित हुवा। लेकिन इसके बाबजूद उनको  अगले मैच की प्लेइंग इलेवन में उन्हे खेलने का मौका दिया। 

जहा पर वो मुरली बिजय के साथ ओपनिंग करने आये  और इस मैच में शानदार शतक जड़कर उन्होंने साबित कर दिया कि अब चुप बैठने वालों में से नहीं है। आस्ट्रेलिया से वापस आने के बाद रणजी मे भी उनकी शानदार फॉर्म जारी रही। 

और कर्नाटक की ओर से खेलते हुए उन्होंने तिहरा सतक लगाया।  और फिर आगे चलकर वह २०१५ के IPL की टीम सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते हुए दिखाई दिए। लेकिन इस बार फिर से वह अपनी प्रतिभा के मुताबित  नहीं कर सकी। और इस सीजन के ९ मैच मे उन्होने सिर्फ १४२ रन ही बना पाए। 

लेकिन 2016 में आईपीएल की टीम आरसीबी में वापसी के साथ ही वह थोड़े बेहतर फॉर्म मे दिखाई दिए। ईएसएस साल उन्होंने 14 मैच ३९७ रन बनाकर वह अपनी टीम का काफी साथ दिया ।  आईपीएल में अच्छी परफॉर्मेंस के चलते टूर्नामेंट के तुरंत बाद 2016 में जिंबाब्वे के खिलाफ उन्हें पहली बार वनडे मैच में खिलाया गया। 

और इस मैच में उन्होंने शानदार शतक जड़कर अपने वनडे डेब्यू मैच में शतक जड़ने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने। साथ ही ऐसी साल ज़िम्बाब्वे के खिलाफ  उन्होने अपना टी-20 डेब्यू भी किया। हलाकि ODI के डेब्यू मे सटक लगनेवाले राहुल टी-२० डेब्यू मे बिना खता खोले आउट हो गए।   

Post a Comment

0 Comments