हार्दिक पान्ड्या की जीवनी Hardik Pandya Biography In Hindi

भारतीय क्रिकेट के उभरते हुए एक क्रिकेटर  हार्दिक पांड्या हे। हार्दिक पांड्या का जन्म 11 अक्टूबर 1993 को गुजरात की सूरत में हुआ था।  उनके पिता का नाम हिमांशु पांड्या  था। जो एक छोटा सा कार फाइनेंस के बिज़नेस चलाते थे। हार्दिक के इलावा उनके एक भाई भी हे जिनका नाम क्रुणाल पांड्या हे।


बचपन से ही  दोनों भाइयों में क्रिकेट में खेल को लेकर एक अलग ही जुनून था। और इसीलिए आर्थिक हालत बहुत अच्छी ना होने के बावजूद उनके पिता सूरत से बड़ौदा शिफ्ट हो गए। और वहां अपने दोनों बेटों को भारत के पूर्व क्रिकेटर किरण मोरे की क्रिकेट एकेडमी में एडमिशन करवा दिया। हार्दिक पांड्या की उम्र ५ साल और उनकी बड़े भाई क्रुणाल की उम्र करीब 7 साल की थी। 

क्रिकेट अकेडमी ज्वाइन करने के बाद दोनों भाइयो ने अच्छी क्रिकेट खेलने शुरू कर दी। और किरण मोरे को भी काफी प्रभावित किया। जिसके बाद मोरे ने भी उनके  आर्थिक हालत को देखते हुए उनके अगले ३ साल की फीस माफ़ कर दिया। बहोत ही जल्द पांड्या ने प्रोफेशनल क्रिकेट में भी कदम रख दिया। और फिर Baroda के तरफ से २०१३-१४ में   Syed Mushtaq Ali Trophy के जित में  एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। और सबका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया।


हार्दिक पान्ड्या की  मुख्य जानकारी


 Hardik Pandya Biography 
पूरा नाम ( Full Name )हार्दिक हिमांशु पांड्या
जन्म दिनांक (Birth)11अक्टूबर 1993
जन्म स्थान (Birth Place)चोर्यासी, सूरत, गुजरात, भारत
पेशा (Profession)क्रिकेटर (ऑलराउंडर)
शिक्षा ( Education )9वीं कक्षा
पत्नी (Wife)नतासा स्टेनकोविक

अगले ही साल उनकी जबरदस्त प्रदर्शन को देखते हुए उन्हे Mumbai Indians के टीम में खेलने का मौका दिया गया।  और अपने पहले ही मैच में उन्होंने आरसीबी के खिलाफ दूसरी ही गेंद पर चक्का जड़ दिया। लेकिन उनके टैलेंट की पहचान जब हुवी जब उन्होने चेन्नई क खिलाफ  21 रनों की तेज पारी खेली।और साथ ही  साथ तीन महत्वपूर्ण कैच में पकड़े। उस मैच के लिए पांड्या को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

और तभी क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने हार्दिक  को प्रदर्शन  देखते हुए कहा की तुम अगले ढेर साल में भारतीय टीम के लिए जरूर खेलोगे। सचिन की यह भविष्यवाणी भी जल्दी ही सच हो । और सिर्फ 1 साल के अंदर 27 जनवरी 2016 को हार्दिक पांड्या Australia के  खिलाफ  T-20 में  इंटरनेशनल मैच में डेब्यू किया।  जिस मैच में उन्होने कुल दो विकेट लिए।

उसी साल १६ अक्टूबर २०१६ में हार्दिक पांड्या ने धर्मशाला के मैदान पर New-zealand के खिलाफ अपना ODI डेब्यू किया।  और उस मैच में तीन विकेट लेते हुवे भारत के जित में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाया। साथ ही साथ भारत की चौथी यस खिलाड़ी बने जिन्हें अपने डेब्यू मैच में मैन ऑफ द मैच के खिताब से नवाजा गया।  इसके अलावा उनकी 18 जून को कौन भूल सकता है।  जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ सिर्फ 43 गेंदों पर 76 रनों की धुआंधार पारी खेली। 

अभी तो या हार्दिक की कैरियर की शुरुआत है।  लेकिन उनमें प्रतिभा साफ दिखाई देती है।  जिससे वह आगे चलकर इतिहास सकते हैं। वेसे तो  हार्दिक पांड्या मिडिल क्लास फैमिली में पैदा हुए और उनके घर की बहुत अच्छी थी लेकिन उन्होने अपने संघर्षों से बहुत ही जल्द इस दुनिया में सबको देखा दिया की अगर दिल से कुछ चाहलो तो कुछ भी  मुश्किल नहीं। 

Post a Comment

0 Comments